मैहर वाली मैया और उस्ताद, बाबा अलाउद्दीन खान: समर के साथ सूफियाना सफर


Image result for deva sharif holi
देवा शरीफ में होली 
देवा शरीफ की होली सेहज़रत निज़ामुद्दीन औलिया की वसंत पंचमी सेअमरनाथ यात्रा की छड़ी मुबारक लेकर चलते मुसलमानों सेमैहर वाली दुर्गा मैया के मंदिर में गाते बजाते उस्ताद अलाउद्दीन खान से संघियों को ही नहींमुसंघियों को भी खूब नफ़रत है! आखिर नुकसान तो उनके धंधे को भी होता है! बाकी इस पर एक कहानी याद आ गई जो माँ विंध्यवासिनी के अनन्य भक्तदोनों नवरात्रि विंध्याचल जाने वाले पिता अक्सर सुनाया करते थे! सोच रहा हूँ आज से ऐसी तमाम कहानियाँ साझा करना भी शुरू करूँ-

सो किस्सा नहीं, हकीकत ये कि उस्ताद अलाउद्दीन खान- भारतीय शास्त्रीय संगीत के पितामह- रवि शंकर से लेकर अली अकबर खान जैसे उस्तादों के गुरु को मैहर के राजा बृजनाथ सिंह मैहर लाये थे. उस्ताद आये और बाबा हो गए- सबके बाबा। बाबा ने फिर बहुत गाया बजाया- जो वाद्य यंत्र छू दें वो उनका गुलाम। 

पर बाबा ने शारदा मंदिर में सबसे ज़्यादा बजाया- सुबह देवी मैया के जागरण से रात शयन तक- बाबा के बजाये बिना कोई पूजा पूरी न होती थी.

बाबा फिर धीरे धीरे बूढ़े होते गए, अशक्त भी. एक दिन ऊपर देखा- मंदिर की तरफ- बोले अब न चढ़ि पाउब। तुंहे सुनक होय तो खुद्दे आवा! 

कहते हैं कि उस सुबह मंदिर से एक बहुत सुन्दर, प्यारी सी बच्ची नीचे उतरी थी- सीढ़ियों पर देखने वाले सब स्तब्ध कि कौन है! छोटा सा क़स्बा ठहरा मैहर- सब सबको जानते हैं ऐसा! उसमें वो बच्ची एकदम अनजानी। किसी के घर की नहीं। 

खैर, वो बच्ची सीधे बाबा के घर गयी और फिर- लोग कहते हैं कि बोली अलाउद्दीन गाओ. जी- बाबा गाइये नहीं, अलाउद्दीन गाओ. गाते रहे फिर अलाउद्दीन। लोग आये तो सरोद पर सर रखे सोते मिले- कभी न उठने के लिए. 

बच्ची को आते हुए सबने देखा था, जाते हुए किसी ने न देखा। 

ये है असल हिंदुस्तान। ये है हमारी परंपरा। 

[मैं नास्तिक ही हूँ- पर मुहब्बत का, किसी और की श्रद्धा का सम्मान न कर पाने वाले आस्तिकों से बहुत बेहतर हूँ. बताइयेगा ऐसी और तमाम कहानियां सुननी हों तो. ]

Comments