Featured Post

नव-देशभक्तों के नाम एक जेएनयू वाले का खुला ख़त

जेएनयू की एक बहुत पुरानी शाम से उतने भी प्यारे नहीं देशभक्तों, भारत माता के वीरों (मुँह खुलते ही स्त्रियों को गालियाँ देने वालों को सप...

July 18, 2017

भारत माता के लिए जान देने को तैयार सैनिक ने मोदी राज में ले ली अपने ही मेजर की जान!

18 सितम्बर 2016: पाकिस्तानी आतंकवादियों ने उड़ी में सेना कैम्प पर हमला कर 17 भारतीय सैनिकों की हत्या कर दी.

18 जुलाई 2017: एक भारतीय सैनिक ने उसी उड़ी में अपने ही मेजर श्रीकांत थापा की हत्या कर दी.

दोनों घटनायें अति देशभक्त, सेना प्रेमी, सेना से सवाल पूछ लेने को देशद्रोह बताने वाले मोदी राज में हुई हैं. भारत माता की जय. बाकी यह होने के सारे संकेत दिख रहे थे- तेज बहादुर यादव से लेकर उन तमाम जवानों के लाइव वीडिओज में जिन्होंने मोदी राज में उनके काम करने के बदतरीन हो गए हालात और अफसरों द्वारा भेदभाव और उत्पीड़न की शिकायत करने की हिम्मत दिखाई थी! सरकार जी क्या बोले थे तब? बोले तेज बहादुर यादव की मानसिक हालत ठीक नहीं। और अति वाचाल- मगर चीन के घुस बैठने के बाद मुँह में जाबा डाल लिए वीर सेनाध्यक्ष क्या बोले थे? अनुशासनात्मक कार्यवाही की धमकी दिए थे. और क्या बोले थे? बोले थे भारत माता की जय. भक्त फिर सब ये दोहराये थे. भारत माता की जय. हम भी दोहरा रहे. भारत माता की जय.

हमको पता है कि इस सिपाही को भी ये सरकार और भक्त पागल साबित कर देंगे। और इस तरह भारतीय सेना का नुकसान दो हो जायेगा- एक मेजर जिसे दुश्मन की गोली ने नहीं, अपने ही साथी ने मार गिराया। और एक सैनिक- जो उस सीमा पर खड़ा था जहाँ रोज हमले होते हैं- जहाँ मोदी राज ने ही अब तक 100 से ज़्यादा सैनिक मरवा लिए हैं- माने शहादत के लिए तैयार, देश के लिए जान देने को तैयार था. मगर अब उसकी जान देश के काम नहीं आएगी- फाँसी से बचा तो कल कोठरी में सड़ेगा- वही सैनिक जो कल तक भारत माता की जय का नारा लगाते हुए भारत माता पर शहीद होने को तैयार था. अब यहाँ रुकें एक मिनट- और मिल के बोलें- भारत माता की जय. और देशभक्त बनना हो तो जोड़ें- मोदी सरकार जिंदाबाद।

वही मोदी सरकार जिसकी नज़र में देश की रक्षा की कीमत इतनी भर नहीं कि एक पूर्णकालिक रक्षा मंत्री रख ले- वही मोदी सरकार जिसने पहले एक साल ऐडहॉक जेटली से रक्षा मंत्रालय चलवाया- फिर ऐसे पर्रिकर को पकड़ के लाये जो मानसिक दबाव नहीं सह पाया और पहले मौके पर गोवा भाग निकला. अब रुकें और दोहराएं- भारत माता की जय. मोदी सरकार ज़िंदाबाद।

बाकी बात फिर वही- तीन साल हर सवाल भारत माता की जय बोल चुप कराने की कोशिश में निकल गए- अगले दो भी निकल ही जायेंगे. सैनिक तेज बहादुर यादव भुला दिया गया- ये वाला भी भुला ही दिया जायेगा! जेल की किसी काल कोठरी में क्यूंकि पागल साबित करने के बाद मौत की सजा नहीं मिलती। आप ने कहीं गलती से पूछ लेने की कोशिश की कि अगर पागल था तो हथियारबंद कैसे था? जिसने अपने ही मेजर को मार सकने वाले ऐसे 'पागल' को हथियार दिए उसके खिलाफ कोई कार्यवाही होगी कि नहीं तो वे बोलेंगे- भारत माता की जय- तुम देशद्रोही हो.

सो अब रुकिए, फिर से. अब बोलिये- भारत माता की जय. मोदी सरकार ज़िंदाबाद. थोड़ी जगहँसाई और हुई तो क्या हुआ! भारत माता की जय. सरहद पार के हत्यारों को रोकने के दावों वाले के राज में अपने ही सैनिक अपने ही अफसरों के खिलाफ वीडिओ बनाने लगे, उनको जान से मार देने लगे तो क्या हुआ. हमें अब खुद को तबाह करने के लिए दुश्मन की भी ज़रूरत नहीं तो क्या हुआ. भारत माता की जय.  मोदी सरकार ज़िंदाबाद।

No comments :

Post a Comment