Featured Post

नव-देशभक्तों के नाम एक जेएनयू वाले का खुला ख़त

जेएनयू की एक बहुत पुरानी शाम से उतने भी प्यारे नहीं देशभक्तों, भारत माता के वीरों (मुँह खुलते ही स्त्रियों को गालियाँ देने वालों को सप...

June 06, 2015

कंबोडिया की यादें

[दैनिक जागरण में अपने कॉलम परदेस से में 06 जून 2015 को प्रकाशित]  

हांगकांग से कंबोडिया के लिए उड़ने के बाद ही मन में न जाने कितने भाव तिरने लगे थे. कैसा होगा वो देश जिसके बारे में पूर्वी उत्तर प्रदेश के एक छोटे से गाँव में बीते बचपन की किताबों में पढ़ा था. वह देश जिसमें विष्णु को समर्पित दुनिया का सबसे बड़ा मंदिर अंगकोर वाट था. जिसमें 6 देशों में बहने वाली दुनिया की 12वीं और एशिया 7वीं सबसे लम्बी वह मेकोंग नदी है जिसने अपना नाम गंगा से पाया है. फिर इसकी राजधानी नाम पेन के स्थापित होने का किस्सा तो और भी मजेदार है. कहते हैं कि 1373 ईसवी में एक रोज इसी मेकोंग नदी में नहाते हुए मैडम पेन को गौतम बुद्ध की चार मूर्तियाँ मिलीं थीं जिन्हें उन्होंने पेन पर्वत (नाम खमेर में पर्वत जो कहते हैं) पर पैगोडा बना स्थापित कर दिया था और लीजिये- विष्णु और बुद्ध दोनों से रिश्ता रखने वाले खमेर लोगों को अपनी राजधानी नाम पेन मिल गयी थी. 

पर फिर बड़े होने के साथ मिलने वाली सूचनाओं ने कंबोडिया के बारे में धारणाएं बदलना शुरू कर दिया था. अब कंबोडिया विष्णु के मंदिर और बुद्ध का देश होने की वजह से नहीं बल्कि दुनिया में अपने लोगों द्वारा का अपनों के सबसे बड़े नरसंहारों में से एक के लिए जाना जाने लगा था. वह भी जहाँ शून्य वर्ष की शुरुआत के साथ ही मुद्रा खत्म कर दी गयी थी. वह भी जिसमें सत्ता में नयी नयी काबिज हुई सरकार ने शहरों में रहने वाली पूरी आबादी को रातों रात वर्ग शत्रु घोषित कर गांवों के लिए रवाना कर दिया था. वह जिसमें उसके बाद इस क्रांतिकारी सरकार ने अपने चार साल के राज में देश की एक तिहाई आबादी को क़त्ल कर दिया था, उस एक तिहाई आबादी को जिसमें खुद अपनी जान दाँव पर लगा लड़ने वाले वरिष्ठ क्रांतिकारी शामिल थे. 

कमाल यह कि 1979 में उस कम्युनिस्ट सरकार के एक दूसरी कम्युनिस्ट पार्टी शासित वियतनाम समर्थित कम्युनिस्टों के उखाड़ फेंकने के बावजूद बहुत कुछ नहीं बदला था. या बदला भी था शायद, यह कि पोल पॉट को उखाड़ फेंकने में लगी अमेरिकी सरकार ने विएतनाम से अपनी नफरत में नरसंहार के जिम्मेदार उसी पोल पॉट के कब्जे में रह गए जरा से जंगलों को कंबोडिया होने की मान्यता ही नहीं दी थी बल्कि उसे ही अरसे तक संयुक्त राष्ट्रसंघ की सदस्यता भी दिलाये रखी थी. खैर, यह फ़साना फिर कभी, अभी बस यह कि इतने बरस बाद भी कंबोडिया बाल वेश्यावृत्ति का केंद्र है जहाँ दुनिया भर के यौनरोगी अपनी वासना शांत करने आते हैं. गरीबी और बाकी तमाम दिक्कतें तो खैर हैं ही. 

कंबोडिया के बारे में अपने निदेशक बासिल फर्नान्डो से बहुत सुना था. उस कंबोडिया के बारे में जिसमें वह 1979 में पोल पॉट शासन के पराजित होने के बाद पहुंची संयुक्त राष्ट्र संघ टीम के मानवाधिकार अंग के मुखिया थे. उस कंबोडिया के बारे में भी जिसमें वकील, डॉक्टर पुलिसकर्मी जैसे लोग नहीं के बराबर बचे थे. उसके भी जिसमें सरकार द्वारा क़त्ल किये गए लोगों के साथ साथ भूख से मारे जा रहे लोग भी शामिल थे. दुनिया घूमना मुझे यूँ ही पसंद है. एक झोले में भरे सामान के साथ चीन, नेपाल, फिलीपींस कितने सारे देश घूम ही आया था फिर ऐसे इतिहास वाले कंबोडिया जाने की इच्छा हो जाना लाजिमी था. 

‘थोड़े ही वक़्त में हम नाम पेन पहुँच रहे हैं. बाहर का तापमान इतना है’ एयरहोस्टेस द्वारा की जा रही घोषणा ने ख्यालों की रेलगाड़ी अचानक रोक दी थी. थोड़ी ही देर में मैं और बासिल इमीग्रेशन की कतार में थे, बाहर होटल की गाड़ी हमारा इंतज़ार कर रही थी. 

कंबोडिया से हुआ यह पहला साक्षात्कार ही बहुत दिलचस्प था. ऐसे कि कोई वक़्त से पीछे लौट गया हो. किसी देश की राजधानी रायपुर हवाई अड्डे से भी छोटी लगे तो भला और अहसास भी क्या हो सकता है? हाँ, बड़े आत्मविश्वास से अमेरिकी डॉलरों में मांगी जा रही रिश्वत ने थोड़ा निश्चिन्त किया था कि अपने जैसे ही लोग हैं, गुजर हो ही जायेगी.  अमेरिकी डॉलरों से याद आया कि पहली यात्रा में एक बड़ा झटका लगने वाला था. यह कि आधिकारिक मुद्रा रियाल होने के बावजूद कंबोडिया में डॉलर खूब चलते ही नहीं बल्कि एटीएम मशीनों तक से मिलते हैं! आप टुकटुक (कम्बोडियन रिक्शा) पर हों या बिस्किट की दुकान में, सामने वाला आपसे डॉलर लेगा भी और खुदरा छोड़ डॉलर लौटाएगा भी. 

बखैर, बिना रिश्वत दिए हम बाहर निकल आये थे और एक और सफ़र शुरू हो चला था. 

1 comment :