Featured Post

नव-देशभक्तों के नाम एक जेएनयू वाले का खुला ख़त

जेएनयू की एक बहुत पुरानी शाम से उतने भी प्यारे नहीं देशभक्तों, भारत माता के वीरों (मुँह खुलते ही स्त्रियों को गालियाँ देने वालों को सप...

February 01, 2014

कुंग हेई फाट चोय- बोले तो घोड़े वाला साल मुबारक

[दैनिक जागरण में अपने पाक्षिक कॉलम 'परदेस से' में 01-02-2014 को प्रकाशित] 

घोड़े पर बैठ कर नया साल आया है. सिर्फ हांगकांग और चीन में ही नहीं बल्कि कोरिया, विएतनाम, जापान माने लगभग पूरे दक्षिण पूर्वी एशिया सहित दुनिया के हर हिस्से में बसे चाइनाटाउंस में. बाकी बस ये कि चीनी लोग इसने नया साल नहीं बल्कि बसंत उत्सव या चन्द्र वर्ष उत्सव कहते हैं. मुझे भी यह सब कहाँ पता था. वह तो सालों साल हांगकांग में बैठ उत्सवधर्मिता देखने के बाद 2010 में बीजिंग निकल पड़ने पर इस उत्सव से हो गयी मुठभेड़ ने बताया कि ये एक दिन नहीं बल्कि हर दिन की अपनी परम्परा के साथ पूरे 15 दिन चलने वाला उत्सव है.  वे 15 दिन जब सड़कों पर उमड़ आयी भीड़ की वजह से ज्यादातर व्यवस्थाएं ध्वस्त हो जाती हैं. जब ट्रैफिक चीटियों सा रेंगता है और सारी रात सड़कों पर ड्रैगन डांस होता है. पुराने लोग बताते हैं कि कभी इस उत्सव में होने वाली आतिशबाजी कान फोड़ देती थी पर भला हो हांगकांग सरकार का कि सरकारी उत्सव छोड़ कर आतिशबाजी यहाँ लगभग प्रतिबंधित ही है. बरसों पहले एक निआन नाम के आदमखोर राक्षस को पटाखों,ड्रम और बाकी शोर से थका कर मार देने के मिथक पर टिके इस त्यौहार में आतिशबाजी लाजिमी भी है. 
खैर, एक हफ्ते के बीजिंग प्रवास की योजना के दो हफ्ते वहाँ फंसे रहने की परिणिति बहुत हसीन किस्म का हादसा था. जेब में बहुत कम पैसे और घूमने को ढेर सारी जगहें। और जहाँ भी जाओ वहाँ गमलों में मंदारिन संतरों के बोन्साई पेड़ों कि कतारें ही कतारें दिखती थीं. साथ दीखते थे खुशियों से लबरेज अपने घर लौटते युवा जोड़े। या नहीं, अपने घर नहीं, उनमे लड़के अक्सर अपनी प्रेमिका के घर जा रहे होते थे. तब प्रेम की इतनी सार्वजनिक स्वीकृति के साथ दूसरी स्तब्ध करने वाली बात यह लगी थी कि प्रेमिका के पिता को सिगरेट देना उनकी बेटी का हाथ मांगने का सबसे प्रचलित तरीका है. फिर और भी दिलचस्प चीजें पता चलीं, जैसे कि प्रेमी न होना सामाजिक रूप से बहुत बुरा माना जाता है. इस हद तक कि अब कुछ कम्पनियाँ बसंत उत्सव तक की अवधि के लिए किराए पर प्रेमी उपलब्ध कराने लगी हैं. 
धीरे धीरे जाना कि बसंत उत्सव वह धुरी है जिस पर चीनी, ख़ास तौर पर फैक्ट्री मजदूरों का जीवन नाचता है. यह कि आर्थिक महाशक्ति बनने के लिए अपने देश में गुलामी की सी दरों पर काम कर रहे ये मजदूर अक्सर साल में एक ही बार घर लौट पाते हैं. और फिर उस लौटने में टूटते घर की मरम्मत से शुरू कर छोटे भाई बहनों कि पढ़ाई तक के सारे सपने हकीकत बनते हैं. काश दुनिया भर के बाजारों को अपने उत्पादों से पाटने वाला चीन यह भी बताता कि इसकी कीमत उसने युवाओं से खाली हो वृद्धाश्रम बनते जा रहे गांवों से ली है. इस कदर वीरान कि चीन की आधिकारिक समाचार एजेंसी शिनहुआ न्यूज़ के मुताबिक इस साल बसंत उत्सव पर घर लौटने वाले कुल मिला के ३.६२ अरब, जी अरब, व्यक्तिगत यात्रायें करेंगे।  
खैर, वापस त्यौहार पर लौटें तो इसकी शुरुआत अजब होती है. पहले दिन  कुंवारों सा रहिये माने नहाना, धोना, कपडे साफ़ करना सब अशुभ माना जाता है. बेचारे कुंवारे! और हाँ, घर साफ़ करना और कूड़ा फेंकना तो बिलकुल ही मना है. दूसरा दिन परिवार, खासतौर पर ससुराल पक्ष के लोगों से मिलने के लिए है जबकि 'लाल मुंह' के नाम वाले तीसरे दिन किसी से मिलना अशुभ माना जाता है कि इससे झगड़े होंगे। चौथे दिन से फिर उत्सव शुरू कर जिंदगी अपने रास्ते पर लौटने लगती है और सातवां दिन तो साझे जन्म उत्सव सा होता है और सभी लोग मानते हैं कि उनकी उम्र एक साल बढ़ गयी.  अगले कुछ दिन तिआन गोंग या स्वर्ग के देवता की पूजा के होते हैं. पर सबसे आश्चर्यजनक होता है  तेरहवां दिन. शायद पूरे साल में इकलौता दिन जब चीनी लोग पूरे उत्सव के दौरान खूब खाने पीने से भारी हुआ पेट साफ़ करने के लिए शुद्ध शाकाहारी भोजन करते हैं. चीन और शुद्ध शाकाहारी, बस यही बात मुझे आज तक हजम नहीं हुई। पन्द्रहवां और अंतिम दिन रंगबिरंगी लालटेन जला बसंत उत्सव के समापन के नाम होता है, वह दिन जब कम से कम हांगकांग में फायर ब्रिगेड कागज़ की उड़ती लालटेनों से आग लगने के डर से दिन भर शहर भर की ख़ाक छानता रहता है.
सो साहिबान, आप सब को घोड़े वाले साल की बधाइयाँ। चाहें तो थोड़े से चीनी बन जाएँ और आप भी मनाएं। वैसे भी घोड़े वाले साल उत्साह, ऊर्जा, साहस और जिद भरे साल होते हैं. और हाँ, चीनी ज्योतिषियों का कहना है कि ये झगड़ों का साल भी हो सकता है. माने दुकानें अपने यहाँ ही नहीं बल्कि यहाँ भी हैं. इस त्यौहार की सबसे अच्छी बात अब, आप चीनी हों या न हों, आपको चार दिन की छुट्टी तो मिलती ही है. सो अपना वक़्त हुआ आतिशबाजी, ड्रैगन डांस और रोशनी देखने का, खूब पढ़ने का और सोने का. कुंग हेई फाट चोय, बोले तो चीनी नववर्ष मुबारक। 
                                                                                                                              [हांगकांग 10]         

4 comments :

  1. अब कुछ कम्पनियाँ बसंत उत्सव तक की अवधि के लिए किराए पर प्रेमी उपलब्ध कराने लगी हैं.
    the most interesting aspect of the festivities .
    Thanks for familiarizing us with chinese way of life .

    ReplyDelete
  2. Replies
    1. शुक्रिया पाबला जी.

      Delete