Featured Post

नव-देशभक्तों के नाम एक जेएनयू वाले का खुला ख़त

जेएनयू की एक बहुत पुरानी शाम से उतने भी प्यारे नहीं देशभक्तों, भारत माता के वीरों (मुँह खुलते ही स्त्रियों को गालियाँ देने वालों को सप...

February 27, 2013

Democracy's Noose: Did Afzal Guru’s hanging satisfy the collective conscience of the nation?


[From my column OBVIOUSLY OPAQUE in the UTS Voice 16-28 February]

He had to die. Die, because a nation wanted him to, or so were we told by the Supreme Court of the nation. He had to die to satisfy the collective conscience of the nation, it has added for a good measure. So, he did die, nay, hanged till death. His body was left hanging for a full thirty minutes after the levers were pulled, we were told by a media that was less reporting on the incident and more speculating.

The media had turned this sombre occasion of a death into cannibalistic carnival reminiscent of a 20-20 cricket match on the anvil. They told us everything about the last moments of the one condemned to death. Most of it was later found to be completely false. They told us how uneasy the convict on the death row was on the eve of his hanging only to be rebuffed by the jail officials next morning who told us how calm and composed he, in fact, was.

Whether the collective conscience of the nation was satisfied or not was the only question they did not bother to answers. They paraded the family members of the victims of the attack the death-convict had allegedly masterminded. They interviewed political leaders asserting that India would not take an attack on its very heart lying down. They looked around for visuals of those celebrating the hanging, almost all of them clad in saffron scarves while waving the Indian tricolour and inflicted the same on the nation that has started to express itself through the likes of Arnab Goswamis screaming on the television sets.   

They did, still, not try to find out where, and in whom, the conscience of the nation resides, forget making efforts to know if it was finally satisfied or not. They did not need to bother to, for they had delivered their judgement far ahead of the courts and were now merely getting disgusted with delay in hanging the convict. The delay, for them, was symptomatic of all that was wrong with India, their India to be precise. They had been questioning the delay incessantly. There ‘nation’ wanted to know when the convict would be hanged.

The convict, by the way, had a name. His name was Afzal Guru. He was a citizen of India. Yes, in case we forgot, as the mainstream media wanted us to, he was a citizen of India. He was entitled to all the rights a citizen, any citizen of India has. None of his rights, including the right to life with dignity unless taken out by due process of law, were respected by the nation. He was denied a fair trial as many of the legal stalwarts of the country believe.

Now, he was robbed of his dignity even in death. He was hanged in utter secrecy, a secrecy that baffled even the Prime Minister Manmohan Singh. Let’s make no mistakes though. Mr. Singh was not upset at “the hanging” but at the “circumvention of basic human parameters”. Basic human parameters, for the uninitiated, mean nothing more than the fact that his family was not informed about his hanging and was not given a chance to meet him ‘one last time’.

The fact that Manmohan Singh is known for being upset after the illegalities have been committed and the benefits reaped by those under his immediate supervision is beside the point. Remember his stand on stone pelting in Kashmir, the very same state Afzal came from. He was upset then too and demanded maximum restraint from the security forces who showered bullets on those who pelted stones. He talked of humane policing. He told all and sundry how much he valued the lives of Indian citizens, even the Kashmiris. P Chidambaram, his subordinate who was directly in command of the security forces, ordered maximum crackdown on the protesters meanwhile without upsetting the Prime Minister anymore. He had already exhausted his quota of being upset about the issue.

Afzal Guru’s case, however, was a different one. Here was a man hanged not for absolute legal reasons but to satisfy the ‘collective conscience of the nation’. The evidence against him was circumstantial at best, not enough for hanging someone with an absolute belief in capital punishment forget those like us who oppose the death sentence as a residual barbarity in modern times. He was given death sentence nonetheless.

The conscience of the nation was not satisfied. It did not want him just to be given a death sentence. It wanted the death warrant signed and executed as soon as possible. Afzal Guru, the man, had been converted into an issue, an emotive one on top of that. The nation, read Bharatiya Janata Party was baying for his blood. They had too for everything about the wretched fellow served the BJP’s purpose. He was a Muslim and a Kashmiri. He was accused of being involved in the conspiracy ( we cannot write conspiring as there is no concrete evidence for that till date) to attack Indian parliament.

What better stick could they, and tens of other amoebic heads the Rashtriya Swayamsevak Sangh clan has, to beat Congress and its politics of ‘minority appeasement.’ Afzal was no more a person languishing in jail for a crime he has committed as per the  political doctrine of collective conscience if not legally as per his own assertion. BJP has converted him into a devil whose dead body would be the hinge on which would turn the discourse of national security.

It was not about national security though, not for the BJP at least. After all it remains the same party which had sent the then Union Minister Jaswant Singh to Kandahar as an escort to the known terrorist Hafiz Saeed in return for the passengers of ill fated Air India flight IC 814. It was also the same party which had unceremoniously returned the army after keeping it in a forward attack position for almost two years without achieving a single stated objective of the misadventure. The cost of the catastrophic buildup on the borders was astronomical. BJP led NDA had successfully managed to get more than 1500 Indian soldiers killed without fighting a war.

Neither had it anything to do either with minority appeasement or BJP’s newly found love about democratic institutions. It has kept its mouth tightly shut on the case of Balwant Singh Rajoana, convicted for the assassination of Beant Singh, the then Chief Minister of Punjab. Rajoana, unlike Afzal Guru, has neither sought any clemency nor shown any remorse for the notorious killing even while admitting his role in the same.

Unlike Afzal Guru, further, Rajoana was not hanged even after death warrant being signed as the jail officials returned the same under, allegedly, instructions of Akali Dal-BJP government ruling the state. Parkash Singh Badal, the Chief Minister of Punjab, had himself approached the home ministry asking for putting the decision on hold. The reasons he gave for the demand were simple. He wanted the ministry to respect the sentiments of the people; the sentiments that reflected in Akal Takht, supreme religious body of the Sikhs, declaring Rajoana as ‘Zinda Shaheed’.

The case of Afzal Guru was no different. There were a lot of sentiments attached to him. The Chief Minister of Jammu and Kashmir, as in Rajoana’s case, had warned the central government about the law and order problems that would have ensued following his hanging. The center did take notice of all that as it was evidenced from the secret hanging and the immediate clampdown on Kashmiri’s right to protest. The state was put under unrelenting curfew. All channels of communication, including social media were stopped.

No, I am not asking for Rajoana’s hanging. No one with a firm belief in humanity can ask for anyone’s killing, that is a foray of the thousands of murderous Bajarangis of the BJP stable. It is not about Rajoana at all in fact.

It is about BJP and its double speak. And of Congress’ abject surrender to this politics of homicidal hate. Afzal Guru was not convicted for legal reasons. Neither was he hanged for the same. He was sacrificed on the altar of petty electoral gains BJP wanted to make out of his death. And on the altar of the growing desperation of the Congress ridden by a battery of scams and bad governance. It is about the difference between Kashmir and Punjab. And the people living in the states.   

It is about the very future of the nation and Congress in it, as well. Congress might succeed, for a while, in puncturing BJP’s Hindutva balloon and emerge victorious in 2014. It is going to lose the battle nonetheless. It is not the first time it is flirting with soft Hindutva politics. It has done that in 1989 by allowing the juggernaut of rathyatras and Shilanyas. It did never come back anywhere close to power in most of north India ever again. It did the same in Gujarat while trying to fight Modi’s Hindutva with Shankarsingh Baghela’s Hindutva. The results are for everyone to see.

If only Congress knew that people prefer originals over photocopies, even when it is all about banality of evil.

I did not know Afzal Guru personally. Neither did I know his wife and son. Today I know them all and my heart goes out to them. With ample help from the BJP, the Indian state has successfully made a hero out of a surrendered militant. With the new vacant grave it has dug in Kashmir for him, it has ensured immortality befitting a martyr on Afzal Guru.

None of it can offer any solace to the bereaved family whose only crime was to be related to Afzal Guru. Nor can it offer any solace to the democracy that has been demeaned by the act. I think of all those Pakistani friends telling me how lucky we are to be a democracy. I had never missed that half-jealous and half-desirous tone of those comments. I don’t know if I would believe them anymore. 

गुलमोहर की छाँव में खड़ी उस सांवली सी लड़की के नाम


किसी मीटिंग में जाना था उस दिन. शायद लाल बहादुर वर्मा सर के घर. सो आराधना को साथ ले लेने के वादे में तय समय से कुछ घंटे भर की देरी से हम डब्लूएच उर्फ महिला छात्रावास परिसर(जेल सी ऊंची चारदीवारी में कैद तीन महिला छात्रावासों का साझा नाम, जो कोई नहीं लेता था) के गेट पर पँहुचे. मैडम गुस्से से उबल रही थीं ही हमें देखते ही फट पड़ीं. ये वक़्त है आने का और न जाने क्या क्या. और हम थे कि कुछ सुन ही न पा रहे थे. और ये लीजिए जनाब, अचानक हम पर एक नगमा नाजिल हुआ – सांवली सी इक लड़की आरजू के गाँव में गुलमोहर की छाँव में. मोहतरमा हतप्रभ. इतनी कि पूछ भी न सकीं कि हुआ क्या है. हमीं से रहा न गया तो हमने कहा ऊपर देखें. सच में हुजूर-सरकार गुलमोहर की छाँव में खड़ी थीं. इसके बाद गुस्से का क्या हुआ खबर नहीं.

वे क्रान्ति के दिन थे. जागती आँखों में दुनिया को बदल डालने के सपने देखने के दिन. वे दिन थे जब हम गोली दागो पोस्टर का रूमान भर आँख जीते थे. वे दिन थे कि ताजा ताजा शुरू की गयी दीवाल पत्रिका (संवाद- दीवाल्रें भी बोलती हैं) के परों पर सवार हमारी हौसलों की परवाज बड़े बड़े अखबारों से टक्कर लेती थी. ऐसे ही दिनों की एक दोपहर आराधना से पहली मुलाक़ात हुई थी. ऐसी कि दशक भर से ज्यादा पहले हुई वो पहली मुलाकात स्मृति में फोटो सी दर्ज है.

हुआ यह था कि हम अपने साइकोलोजी डिपार्टमेंट के पोर्टिको में क्लास की कुछ लड़कियों के साथ बातें करते करते पत्रिका चिपकाने में मुब्तिला थे और मोहतरमा इलाहाबाद विश्वविद्यालय के मनोविज्ञान विभाग से बरास्ते संगीत विभाग होते हुए डब्लूएच जाने वाली ‘लव लेन’ से उल्टी दिशा पीएमसी उर्फ पिया मिलन चौराहा उर्फ प्राक्टर ऑफिस होते हुए अपने संस्कृत विभाग की तरफ बढ़ रही थीं. साथ पूजा भी थी. फिर मोहतरमा की नजर दीवाल पत्रिका पर पड़ी और हमें इलहाम हुआ कि मोहतरमा करीब दसेक फीट की दूरी से उसे पढ़ने की कोशिश किए जा रही हैं.

अपने लिए तो बस इतना ही बहुत था. पढ़ने की कोशिश यानी राजनैतिक सक्रियता की संभावनाओं से लैस यानी हमारे संगठन के लिए एक और साथी. अब जैसा भी लगे तब दुनिया पर अपनी नजर ऐसी ही पड़ती थी. बायें झुकाव है तो बंदा अपना है वर्ना वर्गशत्रु से कम कुछ भी नहीं. खैर, मन में एक और सदस्य का सपना लिए हम इनकी तरफ बढ़े और गुजारिश की कि करीब से पढ़ लें. उस एक नजर में आराधना बहुत सादा सी लगी थी. बहुत सादा और बहुत ईमानदार. और बहुत साहसी भी वरना एक अनजान लड़के का अपनी तरफ बढ़ना इलाहाबाद जैसे शहर में लड़कियों को आज भी सिहरा देता है और हमारी जिंदगियों के टकरा जाने का ये हादसा सन 2000 यानी की पूरे बारह साल पहले हुआ था.  

खैर, उन्होंने खड़े खड़े पूरी पत्रिका पढ़ डाली और बस इतना कहा कि अच्छी है. हमारा स्टैण्डर्ड जवाब था कि आप भी कुछ लिखें. सो उन्होंने वो भी किया, एक अच्छी सी कविता लिख के दे डाली हमें जो पत्रिका के अगले अंक में छपी भी. यह हमारी दोस्ती की शुरुआत थी. सिर्फ इनकी और मेरी नहीं बल्कि इनके पूरे गैंग से मेरी दोस्ती की शुरुआत. चार लड़कियाँ (नाम पूछ के डालूँगा) और मैं.

अब भी याद है कि ‘विजिटिंग डेज’ में मेरे डब्लूएच पँहुच के ‘काल’ लगाने पर दीदी लोग कैसे अचम्भे से देखती थीं. चार लड़कियाँ.. इनमे से ‘इसकी वाली’ कौन है सोचते हुए? और फिर इन लड़कियों की किसी और द्वारा काल लगाने पर और भी आश्चर्य में पड़ जाने वाली दीदियाँ. सोचते तो खैर और भी ‘रेगुलर विजिटर्स’ भी यही थे. चौकेली आँखों में सवाल लिए हुए. और भी ज्यादा इसलिए कि विश्विद्यालय में अपनी थोड़ी बहुत पहचान भी थी, थोड़ी इसलिए कि अपन एक तेजतर्रार मार्क्सवादी छात्रनेता के बतौर जाने जाते थे और बहुत इसलिए कि उस दौर में भी अपनी ‘गर्लफ्रेंड’ की काइनेटिक एसएक्स4 पर पीछे बैठ के घूमा करते थे. वह भी उस शहर में जो मजनू पिंजड़ों के लिए मशहूर था. बहुत इसलिए भी कि यह कारनामा अंजाम देते हुए भी अपन पीसीएस और गुंडों दोनों की फैक्ट्री ताराचंद छात्रावास के वैध अन्तःवासी थे और इसलिए घोषित ‘मर्द’ थे.    

दीदियों का ये भ्रम, खैर, न दूर होना था न हुआ पर अपनी दोस्ती परवान चढ़ती गयी. ऐसे कि दीदियों को भरमाने वाली ये सादा सी लड़की बहुत सारे भरम तोड़ती थी. नारीवाद के ‘इसेन्शियली’ पश्चिमी होने का भरम. बहनजी कहे जाने वाली लड़कियों के ‘बहनजी’ होने का भरम. और अपने मामले में संस्कृत उर्फ देवभाषा के सिर्फ प्रतिक्रियावादी होने का भरम. एक हम थे कि संस्कृत को सीधे खारिज किये बैठे थे और एक ये थीं कि उसी संस्कृत में गार्गी, मैत्रेयी, अपाला और लोपामुद्रा को ढूंढें पड़ीं थीं.

अब इसका क्या करें कि एक रोज इस खोज के रास्ते में हमारा ताजे ताजे ब्रेकअप के बाद भटकने, यानी की सरस्वती घाट जाने का दिल हुआ और हम एक स्कूटर ले के डब्लूएच के गेट पर हाजिर. काल लगाई तो पता चला कि मैडम के साहब ने भी काल लगाईं है. खैर, मैडम हाजिर हुईं तो अपना कहना ये था कि यार तुम दोनों तो रोज साथ रहोगे, अपना आज का ब्रेकअप है, मन बहुत उदास है, चलो घूम के आते हैं और मैडम तैयार. ये और बात कि साहब ने आज तक माफ ना किया हमें उस दिन के लिए. आज भी उनके मुस्कुराते हुए चेहरे के साथ चिपकी गुस्से से उबलती आँखें वह दिन याद दिला देती हैं. और आराधना की वह आँखें भी जिनमे दोस्त के लिए ‘उनको’ छोड़ के चले जाने का साहस था.

याद तो ये भी है कि स्कूटर पर बैठने के बाद जो डरते डरते मोहतरमा ने हमारे कंधे पर हाथ रखा तो बेसाख्ता उनसे कह बैठे थे कि इतना मत डरो भाई, कोई पति थोड़े हैं हम तुम्हारे. उस वक्त हम शायद एडीसी, यानी कि इलाहाबाद डिग्री कालेज, कीडगंज के सामने थे. और मैडम का हँसना, कि इलाके का ट्रैफिक थम सा गया था.

पर अच्छा यह लगता है कि आराधना ने अपनी आजादी से कभी कोई समझौता न किया. न किसी दोस्त के लिए, ना साहब के लिए. समझौता तो उसने अपनी असहजता से भी न किया. जैसे कि उस रोज जब हम कॉफीहाउस के फेमिली केबिन में बैठे थे और इलाहाबाद जैसे छोटे शहरों में निजता की कमी का मारा वह जोड़ा आराधना को बहुत असहज कर रहा था. काफी देर देखते रहने के बाद मैंने कहा था कि अब बस भी करो और अपनी जगहें बदल ली थीं कि उस जोड़े के सामने मोहतरमा की पीठ आ जाये. और उस दिन के सालेक बाद अपने जेनयू रसीद हो जाने के बाद की शाहर वापसी में किसी कैफे (शायद दर्पण?) में बैठे हुए एक जोड़े की वैसी ही हरकतों को लेकर बिलकुल सहज आराधना भी दिखी थी.

वो आराधना जिसे बाद में दिल्ली आना था. जिसे जेनयू की पोस्ट-डाक शोधार्थी होना था. पर आराधना अपना नारीवाद यहाँ के बहुत पहले सीख आयी थी. बिना अंग्रेजी किताबें पढ़े. अंग्रेजी किताबें पढ़ चुकी आराधना के बारे में फिर कभी.

  


February 25, 2013

Elitist Eccentricities: Since When Freedom of expression Start Including Hate Speeches Mr. Ashish Nandy?

[From my column OBVIOUSLY OPAQUE in the UTS Voice, 01-15 February]

Ashish Nandy comes across as the naughty boy of Indian intelligentsia, which is if you go by the accounts of those out to protect his right to free speech. In his quest for knowledge, he titillates, provokes, stings. He is a gadfly to his protégés, noted psephologist Yogendra Yadav, who did never get his predictions right, included. Ashishda has humbled him many a times, he recollects. I have no idea if he ever felt humbled by the masses that consigned his predictions to dustbins of Indian polity elections after election, but then that is beside the point.

Nandy is in news again, this time for prophesying that the republic will survive. Ironically, is the republic under any imminent threat is a question he did not bother with.

Indian republic, it does seem, has developed a strange habit of getting threatened. A curious development for a 60 plus secular socialist development as it encroaches into a sphere hitherto monopolized by religions! Have not the Right to Get Threatened and Right to Feel Persecuted been reserved for religions?  All of them I mean, Hinduism, Islam, Christianity and the myriad others.

It was in grave danger last spring, as some Aam Admis (common men, if you have no clue what this species is all about) had suddenly discovered. The threat to its existence, they found, came from widespread corruption that was eating the system from within. Being true patriots, unlike those running the system according to them, they declared a war on corruption.

They went on to invent a new age Gandhi, in the form of Anna Hazare. The fact that this copy cat Mahatma was hitherto known for opposing reality show Big Boss for hosting Pakistani actors like Veena Malik and beating ‘drunkards’ of his village is beside the point. It was understandable if he had a problem with Veena Malik being referred to as an ‘actor’, but then having issues with someone being a Pakistani was not quite a Gandhian thing, provided Gandhi does not mean Varun Gandhi(you know who, right?) to you. 

Having invented this new Mahtma, the Aam Admis inflicted him on the body politic of the nation. He came to Delhi and roared, cameras rolling. He threatened the irreversibly corrupt system and asked them to accept a draft he had brought with him. He wanted, in true Gandhian sense, death sentence for corrupts and Kasab. To add spectacle to the act, he wanted the sentence to be executed in public. People came and listened to him for a while.

Then they noticed Ram Madhavs of the Rashtriya Swayamsevak Sangh sitting on the stage, right next to  Hazare’s Bharat Mata. The rest is history as they say. The history of these new champions of middle class India funded by likes of Navin Jindals of both Tiranga and Coal-gate fame being consigned to the dustbins of contemporary politics, that is.

Nandy’s republic was different. He would not, inexplicably, disclose what threatened his republic while happily inventing the messiah who would save it. The savior, for him, is corruption, the great equalizing force. It would redeem the republic to live up to the dreams of its founding fathers (whatever happened to founding mothers). That’s what he told a baffled audience in recently concluded Jaipur Literature Festival.

The republic, naughty Nandy further elaborated in his ‘subversive’ style, will survive because most of the corrupt, never adding a ‘now’, “come from the OBCs and the scheduled castes, now inserting a ‘NOW’ “and now increasingly scheduled tribes.” Ask him for the evidence supporting this vulgar and undignified statement in his own words, and he would scoff at you invoking his right to free speech as if the right to free speech intrinsically includes insulting the marginalized communities. Cite the requirements of research methodology which the professor himself might have assiduously taught his students and his followers-in-awe would tell you how original a thinker he is.

That is where the statement requires a closer scrutiny. His take on Dalits and OBCs is timeless and ahistorical. It has no temporality in here and now or there and then. Most of the corrupt might be coming from the Dalits and OBCs since the beginning of the time, at least right from the birth of the republic. Is that the case though? Pause for a moment and recall Rajiv Gandhi’s iconic statement of only 14 paisa out of a rupee reaching the people and one would remember that Social Justice brigade was not even born on the Indian political scene. What does, then, make Nandy make such a sweeping, timeless statement indicting Dalits and OBCs? There are tens of Kalmadis for every A Raja, aren’t there?  

Worse than this is Nandy’s, and “now increasingly scheduled tribes” part. Does he have any evidence to support this obnoxious claim other than indicting alleged bribe-takers Shibu Soren(s) while absolving alleged bribe-givers P. V. Narsimha Rao(s) of all criminal culpabilities? Narsimha Rao, by the way, is the only former prime minister of India who has to face a criminal charge in a corruption case, and is an ‘upper caste’ if one can remind Nandy.

So when does Nandy’s ‘now increasingly’ begins? Since Shibu Soren’s ascendance to power in Jharkhand? Or that of Madhu Koda’s ? How many ‘corrupt’ tribal leaders worth their salt could he find in Uttar Pradesh, a land of scams? Or in Madhya Pradesh or Maharashtra?

Nandy, the naughty professor, got to answer at least a few of these questions instead of turning into a victim of ‘growing intolerance in society’, for which, sardonically again, his supporters blame ‘corrupt’ Dalit leaders like Mayawati. First of the set is the same. Where does he get such mind baffling statistics from, statistics that can shame even the Mathematics genius zero loss Kapil Sibal? However ‘original’ a thinker is, he cannot consign all data to flames to reach at his preferred conclusions after all.

Therein lays the signature brilliance of Nandy, the maverick intellectual. This is not the first time he has offended a community.  He has quite a track record of doing the same. For the sake of those with a fickle memory, the latest among those was his ‘qualified’ support to Mohan Bhagwat’s claim that rapes occur in India and not Bharat. Not atypically, Nandy had then prophesized that India was going to see lots of ‘anomic’ rapes taking place in cities. The data on the contrary from the National Crime Records Bureau did not bother him. Neither did the news reports coming from across the country.  

Decades ago, similar was his take on Sati, or burning a widow alive on her husband’. The institution was no longer rooted in feudal ideas of honour and valour but was taking place more and more in upwardly mobile ‘modern’ families. He did not have any evidence to support this ludicrous claim then, or when a 75 year old Brahmin widow, a community not particularly known for valour, jumped in the funeral pyre of her husband in the last reported case of Sati.

Why does Nandy do all this? Perhaps, because he lives in a world of his own. His world is a world of idealized, almost romanticized villages as rendered to us in movies like Dabangg. His villages are inhabited by Chulbul Pandeys having a heart of gold despite all their rustiness. His villages do not include those like Khairlanji which witness worst possible forms of ‘anomic’ gangrape and murder. Caste discrimination does not exist in his villages, except perhaps during elections when the pre-modern identity somehow resurrects itself and make castes vote en masse.  

This is why, perhaps, that he sees the redemption of the republic coming from corruption that of the Dalits, OBCs and tribals, and not from struggles for social justice. He, in fact, negates the very existence of such struggles.

This actually is the real problem with his statement. Wrongly insinuating that most of the corrupts are from marginalized communities is offensive, negating the struggles for social justice is preposterous. There is no denying the fact that quite a few of the leaders from the social justice camp are widely believed to be corrupt, but why are they so?

How a certain Mayawati and her Bahujan Samaj Party would would survive in a system that demands ludicrous expenses running in tens of crores for contesting elections in just a single constituency, forget the expenses of running the party. Her voters are not rich enough to support her on their own, and she does not have the kind of clientele with Tatas, Birlas, Ambanis like the Congress or the BJP. Who has instituted this systemic corruption in the Indian political system in the first place?

Nandy would not answer this. He would, rather, trivialize the issue and would concoct corruption as the solution instead of the gallant struggles for social justice being waged across the country. Interestingly enough, his defender-in-chief would be the same Yogendra Yadav, who as a member of Aam Admi Party finds corruption to be the single biggest threat to the republic.

Yadav, though, would never stand up for Dalit Professor Pramod Bhumbe of Dr. Babasaheb Ambedkar College of Social Work in Dhule, Maharashtra who was beaten up by the members of RSS, Vishva Hindu Parishad and Bajarang Dal for making ‘offensive’ and derogatory remarks against Lord Ram. There would be no panel discussions either.

No one would get to see outraged faces of suave and urban intellectuals crying foul over the case. No one would discuss the other part of the argument that the corruption of the elite conceals itself in myriad forms like scholarships in same Oxbridge institutions as they themselves might have benefitted from. This is why this whole free speech business is neither about freedom nor the inabilities of the lesser mortals who fail to understand the subtleties of nuanced statements.

The freedom of expression is selective for them. You have it if you are ‘Ashishda’. This is about the eccentricity of elites who have not abandoned their patronizing claim over the toiling masses despite having abandoned them long back. It is not for nothing that Ashish Nandy gets ‘misperceived’ twice in less than a month.

Of course, I am not for his arrest but I do wonder why only Akbaruddin Owaisi(s) should get arrested for their hate speeches. Freedom of expression does not include the freedom to insult a community, and that is what Ashish Nandy has done. As it is, if his freedom of expression is boundless, why should the freedom of those offended not be unlimited as well? If he has a right to hurt (or humble) then the people have a right to get hurt, and humble him, as well. He should have apologized for the republic has risen up.
Or else, he should learn not to speak what he does not mean, time and again. 

February 11, 2013

केवल ओवैसी क्यों?




[खामोशी की चीख शीर्षक से 11 फरवरी 2013 को जनसत्ता में प्रकाशित] 



पर केवल ओवैसी ही क्यों पूछ रहे मेरे दोस्त की 
आँखों में कोई गुस्सा नहीं बस एक गहरा खालीपन था. गुस्सा तो वह शायद हो भी नहीं सकता था क्योंकि बीते तीन दशक में धीरे धीरे इस देश के साम्प्रदायिक सहजबोध का हिस्सा बना दी गयी तमाम रूढ़ियाँ इस प्यारे से दोस्त के व्यक्तित्व के सामने ध्वस्त हो जाती हैं. भगवा हमलों के जवाब में बढ़ती जा रही टोपियों के दौर में रोजों के बीच भी शराबखोरी कर लेने और फिर उसकी याद आने पर हलके से कुछ बुदबुदा कर माफी मांग लेने वाले इस प्यारे से दोस्त का होना भर न सिर्फ इस मुल्क में गंगाजमनी तहजीब के जिन्दा होने का सबसे बड़ा सबूत है बल्कि वहाबी इस्लाम के सूफी इस्लाम को खारिज करने की कोशिशों के एक दिन असफल हो जाने की जिन्दा उम्मीद भी.

हमने उसे सारी उम्र इस्लाम खतरे में है के नारों पर हँसते देखा है. देखा है कि कैसे उसने जहरीली तक़रीर करने आये मौलानाओं को बड़ी गंभीरता से सुनने के बाद धीरे से पूछा है कि मियाँ, ये सब तो ठीक है पर आप ये बताइये कि मस्जिदों पर ज्यादा हमले कहाँ होते हैं हिंदुस्तान में कि पाकिस्तान में? ये बताइए कि जेहादियों के हाथ ज्यादा कहाँ के मुसलमान क़त्ल होते हैं? और फिर स्तब्ध खड़े मौलाना को धीरे से यह कहते हुए भी कि मियाँ इस्लाम खतरे में तो है मगर इस पार नहीं, उस पार और वहां बचा लीजिये यहाँ अपने आप बच जाएगा.

हमने इस दोस्त की आँखों में कौम के स्वयंभू ठेकेदारों, फिर वह चाहे हिन्दू हों या मुसलमान, गुस्सा ही देखा था. हमारी साझेदारियों में इससे पहले ओवैसी और उनकी पार्टी मजलिस--इत्तेहादुल मुसलमीन सिर्फ एक बार आये थे वह भी तब जब उन्होंने प्रख्यात बांग्लादेशी लेखिका तसलीमा नसरीन पर हमला किया था और भारत के एक बहुत प्रगतिशील समझे जाने वाले शिक्षण संस्थान जेनयू में मुस्लिम कट्टरपंथियों के इस हमले पर पसरी गहरी चुप्पी के बीच हमने उनके खिलाफ पोस्टर चिपकाए थे, पर्चे बांटे थे.

ऐसा भी नहीं की हम हमेशा एक दूसरे से सहमत ही रहे हों. सच कहें तो भारत में इस्लाम पर लगातार बढ़ रहे दक्षिणपंथी हमले को लगभग खिलंदड़ाना अंदाज़ में खारिज कर देने की उसकी आदत हमारे बीच लगातार होने वाली लड़ाइयों का सबसे बड़ा सबब बनती रही थी. हमें लगता था कि उसका इस मुल्क की जनता के अमनपसंद होने पर बहुत गहरा यकीन कई बार उसे गहराते जा रहे संकट को देखने नहीं दे रहा.

आप गुजरात कहें और वो कहता कि यही वजह है कि भाजपा दुबारा कभी इस देश की सत्ता में नहीं आ पायी. आप न्याय के बारे में पूछें और वह कहेगा कि देर से सही गोधरा के तमाम बेगुनाह बरी तो हो गए न. आप दंगाइयों को अब तक सजा न मिलने के बारे में पूछें और हिन्दुस्तान की अदालतों में यकीन से लैस वह बतायेगा कि वे बच नहीं पायेंगे. आप सच्चर कमेटी की रिपोर्ट का जिक्र करें और वह कहेगा कि बरखुरदार, हालात इतने संगीन होते तो ये बेजुबान प्रधानमंत्री कभी यह दावा न कर पाता कि वैश्विक जेहाद में किसी हिन्दुस्तानी मुसलमान के शरीक न होने पर उसे गर्व है. 

पर सिर्फ ओवैसी क्यों पूछते उसी दोस्त की आँखों में इस बार वही यकीन गायब था. ऐसा भी नहीं कि उसके इस यकीन का छीजना हमें दिखा नहीं था. शहर बदल जाने के बाद आभासीय दुनिया में गाहेबगाहे मुठभेड़ हो जाने पर पूछे जाने वाले उसके सवालों में एक गहरी खामोशी और उससे भी गहरी उदासी थी. बाल ठाकरे की मृत्यु के बाद उसने पूछा था कि इन्हें भी तिरंगे में लपेट दिया मियाँ? ये तो मुसलमानों को कैंसर कहते थे न और साम्प्रदायिक घृणा फैलाने के अदालत से सजायाफ्ता थे?

उसे अब तक साम्प्रदायिकता की आग के सामने अमन की मिसाल बने खड़े पूर्वी उत्तर प्रदेश से आने पर गर्व था. राममंदिर आन्दोलन के चरम दौर में भी इस इलाके में दंगा करवा पाने की असफल कोशिशें अवाम पर उसको इंसानियत के जिन्दा होने का सबूत लगती थीं. पर फिर धीरे धीरे यह इलाका भी बदलने लगा था. हमें इस इलाके की हवाओं में फिरकापरस्ती का जहर घोलने की कोशिश कर रहे लोग अपने इरादों में कामयाब होते नजर आने लगे थे. 

रमजान काका का राम राम भगवा झंडों वाले जय श्रीराम में कब और कैसे बदल गया यह हम दोनों साथ साथ और साफ़ देख पा रहे थे.  एक बार कहा भी था उसने कि ये योगी आदित्यनाथ जैसे लोग और उनके खिलाफ कार्यवाही न करने वाली सरकारें ही हैं जो मुख्तार अन्सारियों को मुसलमानों का नेता बना देती हैं और इसे रोकना ही होगा.

इस बार उसने और किसी का जिक्र नहीं किया. सिर्फ इतना भर पूछा कि सिर्फ ओवैसी क्यों? उसकी खाली, भावहीन आँखों में मुझे इस सवाल से बचने की कोशिशों के नतीजे दिख रहे थे. याद रखिये कि हमने 1992 में ऐसे ही एक सवाल से बचने की कोशिश की थी और फिर इस मुल्क में कभी न होने वाले बमविस्फोट हमारे शहरों का आम नजारा हो गए थे. इस बार कीमत शायद और बड़ी हो.

न्याय, और सबके साथ न्याय ही एक देश को देश बना के रखता है. एक समुदाय को न्याय से वंचित रखने की कोशिशें न केवल मजहबी कट्टरपंथ को जन्म देती हैं और जिन्दा रखती हैं बल्कि उस समुदाय के भीतर की अमनपरस्त आवाजों को जिबह भी कर देती हैं. और फिर किसी भी धर्म के भीतर बैठे चंद मजहबी कट्टरपंथियों से लड़ना आसान है, पर पूरे समुदाय के हारे हुए यकीन से नहीं. 

February 04, 2013

मुबारक हो. मुफ्ती साहब ने इस्लाम बचा लिया.


इस्लाम एक बार फिर से खतरे में था. ठीक वैसे जैसे पिछले साल था. जाने क्या बीमारी है मुए मजहबों को, सब के सब खतरे में पड़ने की बीमारी पाले बैठे हैं. यहाँ इस्लाम खतरे में पड़ता रहता है और अमेरिका में हर चार साल में ईसाइयत. और हिन्दुइज्म का तो पूछिए ही मत. संघ कबीले का पूरा इतिहास ही हिन्दू धर्म पर मँडराते खतरे इजाद करने का इतिहास है.

फिर इन सारे मजहबों के खतरे भी जरा अजब किस्म के होते हैं. सब के सब अपनी औरतों से ही डरे रहते हैं. क्रिस्चियानिटी को सबसे ज्यादा डर अपने शरीर, यौनिकता और गर्भ पर अधिकार चाहने वाली औरतों से लगता है तो हिंदुत्व बार-पब जाने वाली, लड़कों के साथ अकेले घूमने वाली, अपनी मर्जी से डिस्को में नाचने वाली औरतों से दहशत में रहता है. अब दो ऐसे निकले तो इस्लाम कैसे पीछे रहे. इस्लाम बचाने वालों की आधी मेहनत तो सिर्फ और सिर्फ अपनी औरतों को बुरका पहना के उनको अपनी एक इरानी-फिलीस्तीनी दोस्त के हवाले से कहूँ तो चलता फिरता टेंट (walking tents) बना देने में खर्च हो जाती है. खैर, यहाँ रुक गए तो बात बड़ी लंबी हो जायेगी सो वापस मुद्दे पर लौटते हैं.

सो साहिबान, इस्लाम फिर से खतरे में था. ठीक वैसे ही जैसे पिछले साल था. बाकी पिछले साल जगह जयपुर थी और खतरा सलमान रुश्दी से था. वो तो भला हो धर्मनिरपेक्ष कांग्रेस और अशोक गहलोत वाली उसकी राजस्थान सरकार का जो उन्होंने इस्लाम बचा लिया था. पर ये कतई न सोचियेगा कि इस्लाम बचाने पर कांग्रेस का कोई एकाधिकार है. रुश्दी के पहले जब इस्लाम तस्लीमा नसरीन से खतरे में था तो पश्चिम बंगाल में सीपीएम के नेतृत्व वाली कम्युनिस्ट सरकार इस्लाम बचाने को कूद पड़ी थी और इस बरस कामरेड जनता की धुर विरोधी ममता बनर्जी उर्फ दीदी ने इस्लाम बचाने के लिए सलमान रश्दी को पंहुचने के पहले ही वापस भेज दिया था.

खैर, इस बार खतरा बड़ा था. होना ही था, काश्मीर में जो था. हुआ यह था कि काश्मीर की कुछ लड़कियों ने अपना एक रॉक बैंड बना इस्लाम को गिटारों के निशाने पर ले लिया था. अहमक लड़कियाँ. बदतमीज. बैंड का नाम भी तो क्या रखा था. परगाश. काश्मीरी में बोलें तो सूरज की पहली किरण. सूरज की किरण बोले तो रोशनी. अब रोशनी से तुम्हारा क्या वास्ता बदतमीज लड़कियों. इन मजहब वालों ने तो तुम्हारी तकदीर में तो घरों की दीवारों के भीतर पसरा अँधेरा ही लिखन चाहा है, लिखा है.

और तुम अहमक लड़कियों.. तुम रॉक बैंड बनाने चली थी. गाने बजाने चली थीं? तुम निकल पड़ती तो काश्मीर की उस लड़ाई का क्या होता जिसके साथ हम जैसे सारी उम्र खड़े रहे हैं. कमजोर न पड़ जाती वो? आजादी के नारों के बीच गानों का क्या काम? और दोनों तरफ से आग बरसा रही बंदूकों के बीच तुम्हारे गिटार कितने भद्दे लगते कभी सोचा है? और फिर तुम्हे देख कुछ और लड़के लड़कियाँ भी ऐसे ही रास्तों पर चल पड़ते तो? बेड़ा गर्क हो जाता काश्मीर का, काश्मीरियत का.

शुक्र है कि श्रीनगर के मुख्य मुफ्ती बशीरूद्दीन साहब, अल्लाह उनका जवाल बुलंद करे, का कि उन्होंने तुमको ऐसे गलत और नापाक रास्ते पर जाने से रोक लिया. शुक्र है कि उन्होंने अपने फतवे से याद दिला दिया कि इस्लाम में तेज आवाज में संगीत गैर इस्लामिक है. तुमने देखा नहीं कि कैसे नूरजहाँ साहिबा, आबिदा परवीन, रेशमा, नुसरत साहब सब के सब कितनी धीमी आवाज में छुप छुपा के गाते हैं? कभी देखा है तुमने इन सब को खुलेआम गाते हुए?

तुम्हे क्या लगा था कि आज के इस्लाम वाले पुराने वालों की तरह हैं जिन्हें बिस्मिलाह खान के दशहरे में शहनाई बजाने से ऐतराज न था? जिनको मैहर बैंड वाले उस्ताद अलाउद्दीन खान का मैहर शक्तिपीठ की देवी के लिए गाना बजाना कभी नहीं खटका. ऐसे ही कमबख्तों ने इस्लाम को ऐसी जगह पंहुचा दिया है जहाँ तुम जैसी खराब लड़कियों के जेहन में ऐसे ख्याल न केवल आते हैं बल्कि तुम उन्हें पूरा करने भी निकल पड़ती हो. अब याद करो कि तुम्हारे ठीक बगल पाकिस्तान में इस्लाम बचाने वाले मस्जिदें उड़ा देते हैं, मुहर्रम के मातमी जुलूस में बम फोड़ देते हैं और खुदा का शुक्र करो कि तुम्हारा साबका ऐसे रहमदिल मौलवी से पड़ा है कि बस फतवा दे कर मान गए. या

फिर इसका भी कि वह तुम्हारे करीब वाले श्रीराम सेने वाले प्रमोद मुथालिक जैसे बेरहम नहीं थे नहीं तो कैमरे पर तुम्हारे कपड़े फाड़ तुम्हे समझाते कि ऐसी गुस्ताखी की असली सजा क्या होती है.

अब अच्छा हुआ कि तुमने गिटार खूंटी पर टांग तौबा कर ली है. अगली बार ऐसा सोचना भी मत. वरना याद है न कि रहमदिल मौलवी के जियालों ने तुम्हारा बलात्कार करने की भी धमकी दी है. समझ जाओ, इस्लाम बचाने की राह में किये गए बलात्कार बिलकुल जायज होते हैं, वैसे ही जैसे पाकिस्तानी फ़ौज ने बांग्लादेशी औरतों पर किये थे. जायज तो वह हिन्दू धर्म में भी होते हैं जैसे बजरंगियों ने गुजरात में किये थे.

सो आग लगाओ अपने गिटारों को अब और भूल जाओ सब वरना दर दर फिरना पड़ेगा तस्लीमा नसरीन की तरह, अयान हिरसी अली की तरह.

बाकी यह रास्ता चुनो तो हम तुम्हारे साथ हैं. गिनती में जितने भी कम हों, हमारे हौसलों की परवाज में तुम्हारे गिटार के पँख लग गए तो एक दिन यह जंग जीत ही लेंगे हम. आमीन.

February 02, 2013

दिल्ली गैंग रेप: ये सरकार नहीं राष्ट्रीय शर्म का एक और नाम है.

हांग कांग में लोकल दोस्त बहुत कम हैं। लगभग नहीं। पर एक वाइन शॉप के मालिक से प्यारी सी दोस्ती हो गयी है। प्यारा इंसान है, हर शाम अपनी दुकान में दो तीन दोस्तों के साथ मिलता है, चल रही पार्टी के बीच। पर हमारे (मैं और बीजो, दोस्त ज्यादा बॉस कम) पँहुचने पर बहुत प्यार से मिलता है, हाल चाल पूँछता है। बहुत दिन बाद मिलने पर पूछता है कि कहीं दौरे पर था क्या, ह्यूमन राइट्स के बारे में बात करता है, समझने की कोशिश करता है।

पिछली मुलाक़ात में उसने कुछ नहीं पूछा। बस इतना कहा कि दिल्ली में गैंगरेप के बारे में पढ़ा। आपलोगों को देख के लगता नहीं कि आपका मुल्क ऐसा है। पर यह कहते हुए भी उसके चेहरे पर उदासी थी। ऐसी उदासी जो किसी दोस्त के चेहरे पर ही हो सकती है. साझे गम की साझीदारी की उदासी. एक अपरिचित, अजनबी मुल्क की उस लड़की के लिए उदासी जिससे उसका इस जिंदगी में शायद कोई साबका नहीं पड़ना था. और फिर उस लड़की के लिए ही क्यों, उसकी उदास आँखों में हमारे मुल्क की, या फिर सच कहें तो दुनिया की सारी लड़कियों के लिए उदासी थी.

उसकी आँखों की उलट हमारी आँखों में गुस्सा था. अपने आपे को जलाता, परेशान करता गुस्सा. वो गुस्सा जो आपके पासपोर्ट के रंग से स्त्रीद्वेश के रंग, यौन हिंसा के रंग, साम्प्रदायिकता के रंग और तमाम ऐसे रंगों के जुड़ जाने से पैदा होता है जो इंसानियत को शर्मिंदा करने का बायस बनते हैं. ना, हमें कोई भ्रम नहीं था. हम किसी चमकते भारत के, दुनिया की अगली महाशक्ति बनने जा रहे भारत के, या दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत के फर्जी दावों को सीने पे तमगे सा पहन घूमने वाले हिन्दुस्तानी नहीं थे. हम हो भी नहीं सकते थे क्योंकि एक अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन में काम कर रहे हम दोनों दोस्तों के दिन ऐसी ही कहानियों से मुठभेड़ करते गुजरते हैं. हमें पता था कि हमारा हिन्दुस्तान इनक्रेडिबल इंडिया के पर्चों वाला हिन्दुस्तान नहीं भुखमरी वाला, ऐफ्सपा वाला, कर्जे में डूबे किसानों की आत्महत्या वाला हिन्दुस्तान था.

हमें राष्ट्रभक्ति के दौरे भी नहीं पड़ते थे. हम दो महीने में एक बार किसी पाकिस्तान को नेस्तोनाबूद कर देने नहीं निकल पड़ते थे. और फिर भी हम दोनों को यह सुनना अच्छा नहीं लगा था. हमारे दिलों के भीतर किसी बहुत गहरे कोने में शायद एक आस थी कि एक दिन हमारे बहुत छोटे, और मुल्क के अंदर लड़ रहे दोस्तों के बहुत बड़े संघर्ष हमारे देश को वैसा ही बना देंगे जैसा हम उसे देखना चाहते हैं. और यह चाहत वह जगह थी जहाँ हमारी ख्वाहिशें हांगकांग के उस दोस्त की ख्वाहिशों से यकसा हो जाती थीं.

आखिर को उसका मुल्क भी कुल जमा 40 साल पहले तक बिलकुल हमारे मुल्क जैसा था. तब यहाँ भी लडकियां सुरक्षित नहीं थी, यहाँ भी उतना ही भ्रष्टाचार था और यहाँ भी मदद के लिए पुलिस के पास जाने में खतरे ही ज्यादा होते थे और उससे बेहतर था कि यहाँ के किसी माफिया ट्रायड के पस चले जायें. और उस दोस्त ने, उसके पहले की पीढ़ियों ने इस मुल्क को बिलकुल बदल डाला था. चार दशक के भीतर ही यह मुल्क एक ऐसी जगह में तब्दील हो गया था जहाँ लड़कियाँ रात के दो बजे जो भी चाहें पहन के घूम सकती थीं, बिना यह सोचे कि उनके साथ कोई हादसा हो जायेगा. यह मुल्क एक ऐसी जगह में तब्दील हो गया था जहाँ आप किसी भी राष्ट्रीयता के होने के बावजूद नशे में डूबे हुए अपने घर लौट सकने की हिम्मत जुटा सकते हैं, बिना यह सोचे कि आपके ऊपर कोई नस्ली हमला हो सकता है, या कोई पुलिसिया आपको परेशान कर सकता है.

और एक हमारा मुल्क है जहाँ हमारे ही हमवतन पूर्वोत्तर भारत के दोस्तों को चिंकी कह के गाली दे सकने को अपना अधिकार समझते हैं और वहाँ से आयी लड़कियों को जो हमारी दोस्त, बहन, प्रेमिका, या कुछ भी नहीं हो सकती थीं, को सदैव उपलब्ध समझ उनके ऊपर यौन हिंसा करते रहते हैं.

हाँ, इस बार हम लोगों की आँखों में गुस्से के साथ साथ एक उम्मीद भी थी. इस सामूहिक बलात्कार के बाद सड़कों पर उबल पड़े आम लोगों के गुस्से से पैदा हुई उम्मीद. उस नफ़रत से पैदा हुई उम्मीद जिसने सौम्या विश्वनाथन के बाद लड़कियों को बेवक्त घर से न निकलने की सलाह देने वाली शीला दीक्षित को बेइज्जत कर जंतर मंतर से भगा देने वाले युवाओं को देख पैदा हुई उम्मीद. हड्डियाँ कंपा देने वाली ठण्ड में यौन अपराधियों को न रोक पाने वाले पुलिसियों की बरसती लाठियों के बीच घायल होते हुए युवाओं के प्रतिरोध गीतों से पैदा हुई उम्मीद.

लगा था कि हम बदलाव के बहुत करीब पंहुच गए हैं. मैंने हांग कांग के उस दोस्त को यह कहना भी चाहा था. पर फिर ठहर गया. यह सोच के कि जंग जीत के बतायेंगे. जे एस वर्मा कमेटी के बाद यह उम्मीद और बड़ी हुई थी. शायद इसलिए भी कि वर्मा कमेटी ने अपनी ‘ब्रीफ’ के बहुत आगे जा के पितृसत्ता के खिलाफ ही मोर्चा खोल दिया था. वह तो वहाँ तक चली गयी थी जहाँ इस बलात्कार के खिलाफ, लेकिन अपनी फौजों को बलात्कार का अधिकार देते राष्ट्रवादियों को धता बताते हुए इस कमेटी ने यौनहिंसा/बलात्कार के अपराधी सैनिकों को सशस्त्र बल विशेष सुरक्षा क़ानून (AFSPA) के बचाव से मरहूम करने की सिफारिश कर दी थी. लगा था कि इरोम शर्मिला का संघर्ष किसी मुकाम तक तो पंहुच रहा है.

सोचा था कि हांगकांग के अपने इस दोस्त को कहूँगा उस दिन, जब हम ये लड़ाई जीत लेंगे कि हमारा मुल्क हमारे जैसे लोगों का ही है, इन यौन अपराधियों का नहीं. आज जे एस वर्मा कमेटी की रिपोर्ट पर हिन्दुस्तानी हुकूमत का फैसला देखा. देखा कि कैसे उन्होंने हर महत्वपूर्ण सिफारिश खारिज कर दी. कैसे उन्होंने सांस्थानिक बलात्कार को बचने की कोशिश की. कैसे इस बहुत चिंतित सरकार ने फिर से अपनी बेटियाँ बेच दीं.

आज शनिवार था. आज फिर वाइन खरीदनी थी. मैं अपने उस दोस्त की दुकान पर नहीं गया. जाता तो क्या बताता? यह कि हमारे मुल्क की सरकार बलात्कार के आरोपियों को माननीय सांसद, माननीय विधायक बनते देखना चाहती है. और यह भी कि मेरे दोस्त.. हम फिर से हार गए हैं. हमारी सरकार बलात्कारियों को सम्मान देने वाली, उन्हें वीरता पुरस्कार देने वाली सरकार है. नजर कैसे मिलाता उससे? सो कहीं और चला गया.